Best Hindi Books to Read in 2020

Best Hindi Books to Read in 2020 – इन हिंदी किताबों को एक बार जरूर पढ़ें

बढ़ती टेक्नोलॉजी के साथ ही हमारा दिमाग और भी अधिक संकुचित हो रहा है, एक छोटा सा कैलकुलेशन भी करना होता है तो हम कैलकुलेटर झट से खोल लेते है। ऐसे में अपने दिमाग के विस्तार के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है की आप और हम किताबों से दोस्ती करें।

आज के इस पोस्ट में हम कुछ चुनिंदा किताबों की लिस्ट लेकर आये है जिसे आपको 2020 के शुरुआती दिनों में ही पढ़ लेनी चाहिए (Best Hindi Books to Read in 2020) , हालाँकि ये सभी किताबें बहुत ही पुराणी है और बड़े बड़े लेखकों द्वारा लिखी गयी है लेकिन आज भी बहुत से ऐसे लोग है जो किताबों में दिलचस्पी नहीं लेते और पन्नो पर लिखे ज्ञान की भाषा को नहीं समझ पाते है।

Best Hindi Books to Read in 2020

#1. गोदान – प्रेमचंद

हिंदी साहित्य के क्षेत्र में मुंशी प्रेमचंद्र को एक अलग ही दर्जा प्राप्त है, और गोदान प्रेमचंद्र की सबसे आखरी कृति है जिसे लोग आमतौर पर उनका सबसे सर्वोत्तम कृति भी मानते है।

इस उपन्यास में भारतीय ग्रामीण जीवन सजीव और जीवंत चित्रण है, एक भारतीय किसान के जीवन उसकी आकांक्षाएं, निराशा, बैठकबाजी, बेबसी और निरीहता का पूरी तरह से जीता जगता चित्रण किया गया है।

#2. गबन – प्रेमचंद

गबन प्रेमचंद द्वारा रचित उपन्यास है। ‘निर्मला’ के बाद ‘गबन’ प्रेमचंद का दूसरा यथार्थवादी उपन्यास है। कहना चाहिए कि यह उसके विकास की अगली कड़ी है। ग़बन का मूल विषय है – ‘महिलाओं का पति के जीवन पर प्रभाव’।

#3. कितने पाकिस्तान – कमलेश्वर

यह उपन्यास भारत-पाकिस्तान के बँटवारे और हिंदू-मुस्लिम संबंधों पर आधारित है। यह उनके मन के भीतर चलने वाले अंतर्द्वंद्व का परिणाम माना जाता हे। यह उपन्यास मानवता के दरवाजे पर इतिहास और समय की दस्तक है…

#4. राग दरबारी – श्रीलाल शुक्ल

श्री लाल शुक्ल द्वारा लिखे गए इस उपन्यास में ग्रामीण भारत और सरकारी तंत्र का जो खाका खींचा गया था उसकी बराबरी नहीं की जा सकती। इस उपन्यास का प्रकाशन 1968 में हुआ था और इस पर 1969 में श्रीलाल शुक्ल को साहित्य अकादमी का पुरस्कार मिला।

राग दरबारी की कथा भूमि एक बड़े नगर से कुछ दूर बसे गाँव शिवपालगंज की है जहाँ की जिन्दगी प्रगति और विकास के समस्त नारों के बावजूद, निहित स्वार्थों और अनेक अवांछनीय तत्वों के आघातों के सामने घिसट रही है।

#5. मैला आँचल – फणीश्वरनाथ रेणु

फणीश्वरनाथ रेणु द्वारा रचित ‘मैला आँचल’ हिंदी साहित्य का एक श्रेष्ठ और सशक्त आंचलिक उपन्यास है, रेणु ने अपने ही उपन्यास में ग्रामीण जीवन और पिछड़े ग्रामीण अंचल को बड़े ही जीवन्त और मुखर रूप में चित्रित किया है।

‘नलिन विलोचन शर्मा’ के अनुसार ‘यह ऐसा सौभाग्यशाली उपन्यास है जो लेखक की प्रथम कृति होने पर भी उसे ऐसी प्रतिष्ठा प्राप्त करा दे कि वह चाहे तो फिर कुछ और न भी लिखे। ऐसी कृति से वह अपने लिए ऐसा प्रतिमान स्थिर कर देता है, जिसकी पुनरावृत्ति कठिन होती है। ‘मैला आँचल’ गत वर्षों का ही श्रेष्ठ उपन्यास नहीं है, वह हिन्दी के दस श्रेष्ठ उपन्यासों में सहज ही परिगणनीय है। स्वयं मैंने हिन्दी के दस श्रेष्ठ उपन्यासों की जो तालिका प्रकाशित कराई है, उसमें उसे सम्मिलित करने में मुझे कठिनाई न होगी। मैं किसी द्विधा के बिना एक उपन्यास को हटाकर इसके लिए जगह बना सकता हूँ।’

#6. गुनाहों का देवता – धर्मवीर भारती

गुनाहों का देवता हिंदी उपन्यासकार धर्मवीर भारती के शुरुआती दौर के और सर्वाधिक पढ़े जाने वाले उपन्यासों में से एक है। यह सबसे पहले 1959 में प्रकाशित हुई थी। इसमें प्रेम के अव्यक्त और अलौकिक रूप का अन्यतम चित्रण है। सजिल्द और अजिल्द को मिलाकर इस उपन्यास के एक सौ से ज्यादा संस्करण छप चुके हैं। पात्रों के चरित्र-चित्रण की दृष्टि से यह हिन्दी के सर्वश्रेष्ठ उपन्यासों में गिना जाता है।

#7. झूठा सच – यशपाल

हिंदी साहित्य के सुप्रसिद्ध कथाकार यशपाल का सर्वोत्कृष्ट एवं वृहद्काय उपन्यास झूठा सच 60 के दशक में रची गयी थी, ‘वतन और देश’ तथा ‘देश का भविष्य’ नाम से दो भागों में विभाजित इस महाकाय उपन्यास में विभाजन के समय देश में होने वाले भीषण रक्तपात एवं भीषण अव्यवस्था तथा स्वतन्त्रता के उपरान्त चारित्रिक स्खलन एवं विविध विडम्बनाओं का व्यापक फलक पर कलात्मक चित्र उकेरा गया है। यह उपन्यास हिन्दी साहित्य के सर्वोत्तम उपन्यासों में परिगण्य माना गया है।

#8. कंकाल – जयशंकर प्रसाद

लेखन और रंगमंच के बहुआयामी रचनाकार जयशंकर प्रसाद की कृति कंकाल में हिन्दू धर्म के ठेकेदारों की सच्चाई को उद्घाटित किया गया है, सत्य और मोक्ष की खोज में लगे धर्म के अनुयायी कैसे अपनी वासना में खुद फँस जाते हैं और औरों को इसका शिकार बनाते हैं।

#9. मानस का हंस – अमृत लाल नागर

प्रख्यात लेखक अमृतलाल नागर का उपन्यास ‘मानस का हंस’ ‘रामचरितमानस’ के लोकप्रिय लेखक गोस्मावी तुलसीदास के जीवन को आधार बनाकर रची गई है। यह उपन्यास प्रेरक, ज्ञानवर्द्धक और पठनीय है जिसके माध्यम से तुलसीदास के स्वरुप को समझा और जाना जा सकता है।

#10. आषाढ़ का एक दिन – मोहन राकेश

आषाढ़ का एक दिन प्रसिद्ध नाटककार मोहन राकेश द्वारा रचित एक हिंदी नाटक है जिसकी रचना साल 1958 में हुई थी। अक्सर इस नाटक को हिंदी नाटक के आधुनिक युग का प्रथम नाटक कहा जाता है।

मोहन राकेश द्वारा रचित इस नाटक को न जाने कितनी बार परदों पर उतरा जा चूका है, इतना ही नहीं साल 1979 में निर्देशक मणि कौल ने एक फिल्म बनायीं थी जिसे साल की सर्वश्रेष्ठ फ़िल्म का फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार भी मिला था।

आषाढ़ का एक दिन एक त्रिखंडीय नाटक है जो की महाकवि कालिदास के निजी जीवन पर केन्द्रित है। जिसमें मल्लिका के साथ उनके प्रेम-सम्बन्ध को दर्शाया गया है साथ ही कालिदास के जीवन के बदलाव पर भी प्रकाश डालती है।

मुझे उम्मीद है की आपको यह हिंदी किताबों की यह लिस्ट (Best Hindi Books) पसंद आयी होगी और आप भी किताबों में छिपे ज्ञान को अपने दिल तक पहुंचाने का काम करेंगे, पोस्ट से जुड़ी किसी भी तरह के प्रश्न या प्रतिक्रिया को निचे के कमेंट बॉक्स में जरूर लिखे। हमें आपके कमेंट का इंतज़ार रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *